Mard Maratha Lyrics from the Movie Panipat (2019), sung by Swapnil Bandodkar. The song is composed by Ajay Atul and the lyrics are penned by Javed Akhtar. Discover more songs lyrics...

Mard Maratha Lyrics – Panipat (2019) from Movie Panipat (2019) sung by Swapnil Bandodkar. Learn, Mard Maratha Lyrics meaning in English/Hindi

Movie/album: Panipat (2019)
Singers: Swapnil Bandodkar, Ajay Gogavale, Atul Gogavale, Kunal Ganjawala, Padmanabh Gaikwad, Sudesh Bhonsle
Song Lyricists: Javed Akhtar
Music Composer: Ajay Gogavale, Atul Gogavale
Music Director: Ajay Gogavale, Atul Gogavale
Director: Ashutosh Gowariker
Music Label: Zee Music Company
Starring: Arjun Kapoor, Sanjay Dutt, Kriti Sanon

Mard Maratha Song Lyrics

Hey, bole dharti jaikara
Gagan hai saara goonja re
Jag mein lehraya nyaara
Dhwaj hai humara ooncha re

Hum woh yodha woh nidarr
Hum jo bhi disha mein jaayein
Saare path charan chhuve aur
Parbat sheesh navaaye
Raaste se hat jaaye nadiya ho ke hawayein

Hum hai jiyaale jeetne ko hum rann mein utarte hain
Hum sooraj hain ant hum hi raaton ka karte hain
Yug yug ki zanjeeron ko humne hi kaata re
Bol utha ye jag saara jai mard maratha re

Jo rakt hai tann mein behta
Woh humse hai ye kehta
Sanmaan ke badle jaan bhi de
Toh nahi hai ghaata re

Yug yug ki zanjeeron ko humne hi kaata re
Bol utha ye jag saara jai mard maratha re
Yug yug ki zanjeeron ko humne hi kaata re
Bol utha ye jag saara jai mard maratha re

Veerta humne boyi aur ye phal paaya
Door tak ab hai phaili apni hi chhaya

O…
Jeevan jo rannbhoomi mein karta hai tandav
Aaj usi ne hai vijay ka nagaada bajaaya
Apni hai jo gaatha, ab hai samay sunaata
Sab ko hai ye bataata kaise sukh humne baata re

Yug yug ki zanjeeron ko humne hi kaata re
Bol utha ye jag saara jai mard maratha re
Yug yug ki zanjeeron ko humne hi kaata re
Bol utha ye jag saara jai mard maratha re

Sach ke sipahi albele raahi
Kya jante ho tum
Jab tum nahi thhe hum kab yahin the
Hum bhi the jaise ghum
Tum dhyaan mein the tum praan mein thhe
Jaise janam janam
Jab teer tumpe barse toh
Jaise ghayal huve the hum

Oh.. Dekho toh mujhse keh ke
Main jaan de doon tumpe
Kya tum ye nahin jaante
Duvidha ke aage jab naari jaage
Himmat se kaam le
Choodi utaar kangan utaar talwar thaam le

Maine li aaj shapath hai
Veeron ka path hai mera re
Lakshya apna jo banaa loon
Wahin daalun dera re

Hum woh yodha woh nidarr
Hum jo bhi disha mein jaayein
Saare path charan chhuve aur
Parbat sheesh navaaye
Raaste se hat jaaye nadiya ho ke hawayein

Hum hain jiyale jeetne ko hum rann mein utarte hain
Hum sooraj hain ant hum hi raaton ka karte hain
Yug yug ki zanjeeron ko humne hi kaata re
Bol utha ye jag saara jai mard maratha re

Jo rakt hai tann mein behta
Woh humse hai ye kehta
Sanmaan ke badle jaan bhi de
Toh nahi hai ghaata re

Yug yug ki zanjeeron ko humne hi kaata re
Bol utha ye jag saara jai mard maratha re
Yug yug ki zanjeeron ko humne hi kaata re
Bol utha ye jag saara jai mard maratha re.

Translated Version

हे , बोले धरती जैकारा
गगन है सारा गूंजा रे
जग में लहराया न्यारा
ध्वज है हमारा ऊंचा रे

हम वह योद्धा वह निदारर
हम जो भी दिशा में जाएँ
सारे पथ चरण छुवे और
परबत शीश नवाये
रास्ते से हैट जाए नदिया हो के हवाएं

युग युग की ज़ंजीरों को हमने ही काटा रे
बोल उठा ये जग सारा जय मर्द मराठा रे
युग युग की ज़ंजीरों को हमने ही काटा रे
बोल उठा ये जग सारा जय मर्द मराठा रे .

जो रक्त है तन्न में बेहटा
वह हमसे है ये कहता
सन्मान के बदले जान भी दे
तोह नहीं है घाटा रे

युग युग की ज़ंजीरों को हमने ही काटा रे
बोल उठा ये जग सारा जय मर्द मराठा रे
युग युग की ज़ंजीरों को हमने ही काटा रे
बोल उठा ये जग सारा जय मर्द मराठा रे .

वीरता हमने बोई और ये फल पाया
दूर तक अब है फैली अपनी ही छाया

O…
जीवन जो रणभूमि में करता है तांडव
आज उसी ने है विजय का नगाड़ा बजाय
अपनी है जो गाथा , अब है समय सुनाता
सब को है ये बताता कैसे सुख हमने बात रे

युग युग की ज़ंजीरों को हमने ही काटा रे
बोल उठा ये जग सारा जय मर्द मराठा रे
युग युग की ज़ंजीरों को हमने ही काटा रे
बोल उठा ये जग सारा जय मर्द मराठा रे .

सच के सिपाही अलबेले रही
क्या जानते हो तुम
जब तुम नहीं थे हम कब यहीं थे
हम भी थे जैसे घूम
तुम ध्यान में थे तूम प्राण में थे
जैसे जनम जनम
जब टीर तुमपे बरसे तोह
जैसे घायल हुवे थे हम

ओह .. देखो तोह मुझसे कह के
मैं जान दे दूँ तुमपे
क्या तुम ये नहीं जानते
दुविधा के आगे जब नारी जागे
हिम्मत से काम ले
चूड़ी उतार कंगन उतार तलवार थाम ले

मैंने ली आज शपथ है
वीरों का पथ है मेरा रे
लक्ष्य अपना जो बना लून
वहीँ डालूं डेरा रे

हम वह योद्धा वह निदारर
हम जो भी दिशा मेंन जाएँ
सारे पथ चरण छुवे और
परबत शीश नवाये
रास्ते से हैट जाए नदिया हो के हवाएं

हम हैं जिले जीतने को हम रणन में उतारते हैं
हम सूरज हैं अंत हम ही रातों का करते हैं
युग युग क ज़ंजीरों को हमने ही काटा रे
बोल उठा ये जग सारा जय मर्द मराठा रे

जो रक्त है तन्न में बेहटा
वह हमसे है ये कहता
सन्मान के बदले जान भी दे
तोह नहीं है घाटा रे

युग युग की ज़ंजीरों को हमने ही काटा रे
बोल उठा ये जग सारा जय मर्द मराठा रे
युग युग की ज़ंजीरों को हमने ही काटा रे
बोल उठा ये जग सारा जय मर्द मराठा रे .


Tip: You can learn the meanings of Mard Maratha Lyrics in English/Hindi by hovering over the highlighted word.


Lyrics provided on Lyricstaal.com are for reference and education purpose only. We don't promote copyright infringement instead, if you enjoy the music then please support the respective artists and buy the original music from the legal music providers such as Apple iTunes, Saavn and Gaana.

ADVERTISEMENT

Mard Maratha Lyrics Video

https://youtu.be/JR_JVw-_BC0