Ishtehaar Lyrics from the Movie Welcome to New York (2018), sung by Rahat Fateh Ali Khan. The song is composed by Charanjeet Charan and the lyrics are penned by Charanjeet Charan. Discover more songs lyrics...

Ishtehaar Lyrics from Movie Welcome to New York (2018) sung by Rahat Fateh Ali Khan. Learn, Ishtehaar Lyrics meaning in English/Hindi

Movie/album: Welcome to New York (2018)
Singers: Rahat Fateh Ali Khan
Song Lyricists: Charanjeet Charan
Music Composer: Shamir Tandon
Music Director: Shamir Tandon
Director: Chakri Toleti
Music Label: T-Series
Starring: Sonakshi Sinha, Diljit Dosanjh, Karan Johar

Ishtehaar Song Lyrics

Dil chubhne laga hai khaar koi
Pad gayi hai kahin daraar koi
Mujhko padhkar woh aise bhool gaya
Jaise kaagaz pe ishtehaar koi

Dil chubhne laga hai khaar koi
Pad gayi hai kahin daraar koi
Mujhko padhkar woh aise bhool gaya

Mujhko padhkar woh aise bhool gaya
Jaise kaagaz pe ishtehaar koi

Kaun samjhega rok rakha hai
Maine palkon pe aabshaar koi

Chhod jaane de
Karke guzra hai
Mere khwabon ko taar taar koi

Mujhko padhkar woh aise bhool gaya
Jaise kaagaz pe ishtehaar koi.

 

Hindi Lyrics

इधर जाऊँ, उधर जाऊँ
कश्मकश में हूँ मैं, किधर जाऊँ
मुझको बता दे मेरे मौला
ख़त्म गर हो गया सफर, जाऊँ

दिल में चुभने लगा है खार कोई
पड़ गई है कहीं दरार कोई
मुझको पढ़कर वो ऐसे भूल गया
जैसे कागज़ पे इश्तेहार कोई
दिल में चुभने लगा है…

कौन समझेगा रोक रखा है
मैंने पलकों पे अबशार कोई
छोड़ जाने दे कर के गुज़रा है
मेरे ख़्वाबों को तार तार कोई
मुझको पढ़कर वो ऐसे भूल गया
जैसे कागज़ पे इश्तेहार कोई…

चाहता हूँ मैं पर नहीं रहती
मुझको मेरी खबर नहीं रहती
मैं हूँ ऐसे की जश्न से पहले
टूट जाता है जैसे हार कोई
मुझको पढ़कर वो ऐसे भूल गया
जैसे कागज़ पे इश्तेहार कोई…

 

Translated Version

इधर जाऊँ, उधर जाऊँ
कश्मकश में हूँ मैं, किधर जाऊँ
मुझको बता दे मेरे मौला
ख़त्म गर हो गया सफर, जाऊँ

दिल में चुभने लगा है खार कोई
पड़ गई है कहीं दरार कोई
मुझको पढ़कर वो ऐसे भूल गया
जैसे कागज़ पे इश्तेहार कोई
दिल में चुभने लगा है...

कौन समझेगा रोक रखा है
मैंने पलकों पे अबशार कोई
छोड़ जाने दे कर के गुज़रा है
मेरे ख़्वाबों को तार तार कोई
मुझको पढ़कर वो ऐसे भूल गया
जैसे कागज़ पे इश्तेहार कोई...

चाहता हूँ मैं पर नहीं रहती
मुझको मेरी खबर नहीं रहती
मैं हूँ ऐसे की जश्न से पहले
टूट जाता है जैसे हार कोई
मुझको पढ़कर वो ऐसे भूल गया
जैसे कागज़ पे इश्तेहार कोई...

Tip: You can learn the meanings of Ishtehaar Lyrics in English/Hindi by hovering over the highlighted word.


Lyrics provided on Lyricstaal.com are for reference and education purpose only. We don't promote copyright infringement instead, if you enjoy the music then please support the respective artists and buy the original music from the legal music providers such as Apple iTunes, Saavn and Gaana.

ADVERTISEMENT