Jashn E Bahaara Lyrics from the Movie Jodhaa Akbar - (2008), sung by Bonnie Chakraborty, Mohammad Aslam. The song is composed by A. R. Rahman and the lyrics are penned by Javed Akhtar. Discover more songs lyrics...

Movie/album: Jodhaa Akbar
Singers: Javed Ali
Song Lyricists: Javed Akhtar
Music Composer: A.R. Rahman
Music Director: A.R. Rahman
Music Label: UTV Music
Starring: Hrithik Roshan, Aishwarya Rai Bachchan, Sonu Sood

Jashn-E-Bahaara Song Lyrics

(Javed Ali begins)

Kehne ko jashn-e-bahaara hai, ishq yeh dekh ke hairan hai
Kehne ko jashn-e-bahaara hai, ishq yeh dekh ke hairan hai
Phool se khushboo khafa-khafa hai gulshan mein
Chupa hai koyi ranj fiza ki chilman mein

Saare sehme nazaare hain,
Soye soye waqt ke dhaare hain
Aur dil mein khoyi-khoyi si baateinn hain

O ho, kehne ko jashn-e-bahaara hai, ishq yeh dekh ke hairan hai
Phool se khushboo khafa-khafa hai gulshan mein
Chupa hai koyi ranj fiza ki chilman mein

(Instrumental break)

Kaise kahein kya hai sitam, sochte hain ab yeh hum
Koyi kaise kahe woh hai ya nahin humaare
Karte toh hai saath safar, phaasle hain phir bhi magar
Jaise milte nahin kisi dariya ke do kinaare
Paas hain phir bhi paas nahee, humko yeh ghum raas nahin
Seeshe ki ik diwaar hai jaise darmiyaan
Saare sehme nazaare hain,
Soye soye waqt ke dhaare hain
Aur dil mein khoyi-khoyi si baateinn hain

Kehne ko jashn-e-bahaara hai, ishq yeh dekhke hairan hai
Phool se khushboo khafa-khafa hai gulshan mein
Chupa hai koyi ranj fiza ki chilman mein

(Instrumental break)

Humne jo tha nagma suna, dil ne tha usko chuna
Yeh daastaan hamein waqt ne kaisi sunayi
Hum jo agar hai ghumgeen, woh bhi udhar khush toh nahin
Mulaqaaton mein jaise ghul si gayi tanhayi
Milke bhi hum milte nahin, khil ke bhi gul khilte nahin
Aankhon mein hai bahaarein, dil mein khija
Saare sehme nazaare hain,
Soye soye waqt ke dhaare hain
Aur dil mein khoyi-khoyi si baatein hain

O ho, kehne ko jashn-e-bahaara hai, ishq yeh dekhke hairan hai
Phool se khushboo khafa-khafa hai gulshan mein
Chupa hai koyi ranj fiza ki chilman mein

Translated Version

कहने को जश्न-इ-बहरा है
इश्क़ यह देखके हैरान है
कहने को जश्न-इ-बहरा है
इश्क़ यह देखके हैरान है
फूल से खुशबू खफा खफा है गुलसन में
छुपा है कोई रंज फ़िज़ा की चिलमन में

सरे सेहमें नज़ारे हैं
सोए सोए वक़्त के धारे हैं
और दिल में कोई खोयी सी बातें हैं
ू.. कहने को जश्न-इ-बहरा है
इश्क़ यह देखके हैरान है
फूल से खुशबू खफा खफा है गुलसन में
छुपा है कोई रंज फ़िज़ा की चिलमन में

कैसे कहें क्या है सितम
सोचते है अब्ब यह हम
कोई कैसे कहें वह है या नहीं हमारे
करते तो है साथ सफर
फासले हैं फिर भी मगर
जैसे मिलते नहीं किसी दरिया के दो किनारे
पास हैं फिर भी पास नहीं
हम को यह गम रास नहीं
शीशे की एक दीवार है जैसे दरमियाँ

सरे सेहमें नज़ारे हैं
सोए सोए वक़्त के धारे हैं
और दिल में कोई खोयी सी बातें हैं
ू.. कहने को जश्न-इ-बहरा है
इश्क़ यह देखके हैरान है
फूल से खुशबू खफा खफा है गुलसन में
छुपा है कोई रंज फ़िज़ा की चिलमन में

हमने जो था नग्मा सुना
दिल ने था उसको चुना
यह दास्ताँ हमें वक़्त ने कैसे सुनाई
हम जो अगर है ग़मगीन
वह भी उधार खुश तो नहीं
मुलाकातों में जैसे घुल सी गई तन्हाई
मिलके भी हम मिलते नहीं
खिलके भी गुल खिलते नहीं
आँखों में है बहरें दिल में खिलजा

सरे सेहमें नज़ारे हैं
सोए सोए वक़्त के धारे हैं
और दिल में कोई खोयी सी बातें हैं
ो हूँ कहने को जश्न-इ-बहरा है
इश्क़ यह देखके हैरान है
फूल से खुशबू खफा खफा है गुलसन में
छुपा है कोई रंज फ़िज़ा की चिलमन में.

Tip: You can learn the meanings of Jashn E Bahaara Lyrics in English/Hindi by hovering over the highlighted word.


Lyrics provided on Lyricstaal.com are for reference and education purpose only. We don't promote copyright infringement instead, if you enjoy the music then please support the respective artists and buy the original music from the legal music providers such as Apple iTunes, Saavn and Gaana.

ADVERTISEMENT

Jashn E Bahaara Lyrics Video