Chinmayi

Titli Song Lyrics-Chennai Express

Titli Song Lyrics-Chennai Express from the album Chennai Express - 2013, sung by Chinmayi, Gopi Sunder. The song is composed by Vishal - Shekhar and the lyrics are penned by Amitabh Bhattacharya. Discover more songs lyrics...
Lyrics Top Ads

Titli Song Lyrics

Bann ke titli dil uda
uda uda hai
Kahin doooor…
Bann ke titli dil uda
uda uda hai
Kahin doooor…

Chal ke khushboo se juda
juda juda hai
Kahin doooor…

Haadse ye kaise
Unsune se jaise
choome andheron ko
Koi Nooor…

Bann ke titli dil uda
uda uda hai
Kahin doooor…

Sirf keh jaaun ya
Aaasmaan pe likh doo
Teri taarifon mein
Chashme Baddoor

Bann ke titli dil uda
uda uda hai
Kahin doooor…
Chal ke khushboo se juda
juda juda hai
Kahin doooor…

Bhoori bhoori Aankhein teri
Kalkiyon se tez teer kitne chodey
Daani daani baatein teri
Udte  phirtey panchiyon ke
Rukh bhi modey

Adhoori thi zara si
Main poori ho rahi hoon
Teri saadgi mein
Hoke choooor…

Bann ke titli dil uda
uda uda hai
Kahin doooor…
Chal ke khushboo se juda
juda juda hai
Kahin doooor…

Raatein gunke, Neendein bunke
Cheez kya hai
Ghwab dari humne jaani
Tere sur ka saaz banke
Hoti kya hai
Raag dari humne jaani

Jo dil ko bha rahi hai
Woh teri shayari hai
Ya koi shayrana
Hai fitoooor…

Bann ke titli dil uda
uda uda hai
Kahin doooor…
Chal ke khushboo se juda
juda juda hai
Kahin doooor…

Haadse ye kaise
Unsune se jaise
choome andheron ko
Koi Nooor…

Bann ke titli dil uda
uda uda hai
Kahin doooor…

Sirf keh jaaun ya
Aaasmaan pe likh doo
Teri taarifon mein
Chashme Baddoor…

Translated Version

बन के तितली दिल उड़ा उड़ा
उड़ा है कहीं दूर..
बन के तितली दिल उड़ा उड़ा
उड़ा है कहीं दूर..
चाल के ख़ुशबू से जुड़ा जुड़ा
जुड़ा है कहीं दूर
हादसे ये कैसे
अनसुने से जैसे चूमे अंधेरों को
कोई नूर
बन के तितली दिल उड़ा
उड़ा उड़ा है कहीं दूर..

सिर्फ कह जाऊं या
आसमान पे लिख दूं
तेरी तारीफों में
चश्में बाद्दूर

बन के तितली दिल उड़ा उड़ा
उड़ा है कहीं दूर..
चाल के ख़ुशबू से जुड़ा जुड़ा
जुड़ा है दूर

भूरी भूरी आँखें तेरी
कनखियों से तेज़ तीर कितने छोड़े
धानी धानी बातें तेरी
उड़ते फिरते पंछियों के रुख भी मोड़े

अधूरी थी ज़रा सी
मैं पूरी हो रही हूँ
तेरी सादगी में होके चूर
बन के तितली दिल उड़ा उड़ा
उड़ा है कहीं दूर..
चाल के ख़ुशबू से जुड़ा जुड़ा
जुड़ा है दूर

रातें गिन के नींदें बुन के
चीज़ क्या है हम ने जानी
तेरे सुर का साज़ बन के
होती क्या है रागदारी हम ने जानी

जो दिल को भा रही है
वो तेरी शायरी
या कोई शायराना है फितूर
बन के तितली दिल उड़ा उड़ा
उड़ा है कहीं दूर..
चाल के ख़ुशबू से जुड़ा जुड़ा
जुड़ा है दूर हादसे
ये कैसे अनसुने से जैसे
चूमे अधेरों को कोई नूर
बन के तितली दिल उड़ा उड़ा
उड़ा है कहीं दूर..सिर्फ कह जाऊं या
आसमान पे लिख दूं
तेरी तारीफों में चश्मे बद्दॊर


Tip: You can learn the meanings of Titli Song Lyrics-Chennai Express in English/Hindi by hovering over the highlighted word.


Lyrics provided on Lyricstaal.com are for reference and education purpose only. We don't promote copyright infringement instead, if you enjoy the music then please support the respective artists and buy the original music from the legal music providers such as Apple iTunes, Saavn and Gaana.

ADVERTISEMENT