Shuru Karein Kya – Article 15 from the Movie Article 15, sung by Dee MC, Kaam Bhaari & Spitfire, Slow Cheeta. The song is composed by Parker & Gingger and the lyrics are penned by Dee MC, Kaam Bhaari & Spitfire, SlowCheeta. Discover more , songs lyrics...

Shuru Karein Kya – Article 15 from Movie Article 15 sung by Dee MC, Kaam Bhaari & Spitfire, Slow Cheeta. Learn, Shuru Karein Kya – Article 15 meaning in English/Hindi

  • Song Name :Shuru Karein Kya
  • Language : Hindi
  • Singers/Lyricist : SlowCheeta, Kaam Bhaari, Dee MC and Spitfire
  • Music Composer : Devin “DLP” Parker, Gingger
  • Actor : Ayushmann Khurrana
  • Music Company
  • Label : Zee Music Company

Batein bahut hui kaam shuru kare kya
Kal kya karega aaj shuru kare kya

Yeh desh apney hanth, kuch baaton se hoga na
Tu khud hi hai nayak, toh shuru kare kya

Batein bahut hui kaam shuru kare kya
Kal kya karega aaj shuru kare kya

Yeh desh apney hanth, kuch baaton se hoga na
Tu khud hi hai nayak, toh shuru kare kya

Shuruaat se hi seekhte galat hain
Garam hai hum sab pe par khud main jo dam hai woh kum hai kya?

Tere andar ki zameer aaj num hai kya?
Doosron pe bhauke tujhe khud pe sharam hai kya

Gareebon pe atyachaar
Bachiyon ka balatkaar

Na ruke ga na toh hoga aisa koi chamatkar,
Ungli uthate par awaaz toh uthaao,

Note sab chaape saale izzat kamaao,
Deep tum jalaate khaali kadam badhaate,

Apne andar ke andhere main tum batti ko jalaao

Aaftaab si udaan kyun samaaj bana chilman sa,
Lutkar jo lathpath tu puchhta hai jaat unka,

Tarkash me majhab ye jabtak taraju ke,
Peedhhi ki maut hogi gharshan kare shanka,

Haan !

ainak awaam ka hai saaf nahi,
Devi haan sadko pe darke kyu kaanp rahi ?

Saanp bani chhati pe dehshat dharam ki,
Tu khud hai masiha ye ankhe kyu nam !

Batein bahut hui kaam shuru kare kya
Kal kya karega aaj shuru kare kya

Yeh desh apney hanth, kuch baaton se hoga na
Tu khud hi hai nayak, toh shuru kare kya

Hindu bhai musalman ka toh kayko ladte jaat pe,
Insaaniyat hai gumshuda, aur psycho hum haalat se

Aur apne logo ko toh chahiye jaati ka vaad haathi ka daat, tu bol mujhko kidhar gayab
insaaf,

Tabhi milega, jabhi tu apne haq ko bolna shuru karega,
Sach ko kholna sabke baarein mai sochna ab tu nahi darega..

Aamir ke thaali mai roti chhaar,
Fakeer ko nahi h mila prasaad..

Sab theek hai tera toh bada vyapaar,
Kamzor pe aise na daal dabaav

Chalo shuru se shuru kare haal kyu behaal hai
Aise toh azaadi ko hue sattar saal hai

Hum azaad na phirr bhi
Kabhi sunnte na khudki

Bass ghar baithe sochenge masle ki tarkeeb
Kadam le aage toh peeche yeh kheeche tu zyaada sach ugle toh dharti ke neeche

Ab Neeche he rehna
Sab himmat se sehna

Woh maare woh peete tu kuch bhi na kehna
Har jaati se choti yaha aurat ki jaat

Dede jeewan ki dor kisi aurke haath
Yaha praan jaaye par maan na jaaye

Daulat ki lalach hadapti duayein

Batein bahut hui kaam shuru kare kya
Kal kya karega aaj shuru kare kya

Yeh desh apney hanth, kuch baaton se hoga na
Tu khud hi hai nayak, toh shuru kare kya

Translated Version

बातें बहुत हुई काम शुरू करें क्या

कल क्या करेगा आज शुरू करें क्या

ये देश अपने हाथ कुछ बातों से होगा ना

तू खुद ही है नायक तो शुरू करें क्या


बातें बहुत हुई काम शुरू करें क्या

कल क्या करेगा हिन्दीट्रैक्स आज शुरू करें क्या

ये देश अपने हाथ कुछ बातों से होगा ना

तू खुद ही है नायक तो शुरू करें क्या


शुरुआत से ही सीखते गलत है, गरम है हम सब पे पर खुद में जो दम है वो कम है क्या

तेरे अन्दर की ज़मीर आज नम है क्या

दूसरों पे भौके तुझे खुद पे शर्म है क्या

गरीबों पे अत्याचार, बच्चियों का बलात्कार ,ना रुकेगा ना तो ना होगा ऐसा कोई चमत्कार

ऊँगली उठाते पर आवाज तो उठाओ

नोट सब छापे साले इज्ज़त कमाओ

बत्ती तुम जलाते खाली कदम बढ़ाते अपने अन्दर के अँधेरे में वो बत्ती को जलाओ


आफ़ताब सी उड़ान क्यूँ,समाज बना चिलमन सा

लूटकर कर जो लथपथ तू पूछता है जात उनका

तरकश में मज़हब ये जब तक तराजू के

पीढ़ी की मौत होगी घर्षण करे शंका

हाँ ऐनक अवाम का है साफ नहीं देवी

हाँ सड़कों पे डर के क्यूँ काँप रही

सांप बनी छाती पे दहशत धरम की तू खुद है मसीहा ये आँखें क्यूँ नम सी


बातें बहुत हुई काम शुरू करें क्या

कल क्या करेगा आज शुरू करें क्या

ये देश अपने हाथ कुछ बातों से होगा ना

तू खुद ही है नायक तो शुरू करें क्या


तू भाई मुस्लमान का

तो काई को लड़ते जात पे

इंसानियत है गुमशुदा और साइको हम हालात से

और अपने लोगो को तो चाहिए जाती का वार,हाथी का दाँत

तू बोल मुझको किधर गायब इन्साफ

तभी तो मिलेगा जभी तू अपने हक को बोलना शुरू करेगा

सच को खोलना सब के बारे में सोचना ,अब तू नहीं डरेगा

अमीर के थाली में रोटी है चार, फ़कीर नहीं है मिला प्रसाद

सब ठीक है तेरा तो बढ़ा व्यापार, कमजोर पे ऐसे ना डाल दबाव


चलो शुरू से करें हाल क्यूँ बेहाल है

ऐसे तो आजादी को हुवे सत्तर साल हैं

हम आज़ाद ना फिर भी ,कभी सुनते ना खुद की

घर बैठे सोचेंगे मसले की तरकीब

कदम ले, आगे तो पीछे ये खींचे तू

ज्यादा सच उगले, तो धरती के नीचे अब

नीचे ही रहना, हिम्मत से सहना

वो मारे, वो पीटे, तू कुछ भी ना कहना

हर जाती से छोटी यहाँ ,औरत की जात दे

दे जीवन की डोर किसी और के हाथ

यहाँ प्राण जाए पर मान ना जाए

दौलत की लालच हड़पती दुआएं


बातें बहुत हुई काम शुरू करें क्या

कल क्या करेगा आज शुरू करें क्या

ये देश अपने हाथ कुछ बातों से होगा ना

तू खुद ही है नायक तो शुरू करें क्या

Tip: You can learn the meanings of Shuru Karein Kya – Article 15 in English/Hindi by hovering over the highlighted word.


Lyrics provided on Lyricstaal.com are for reference and education purpose only. We don't promote copyright infringement instead, if you enjoy the music then please support the respective artists and buy the original music from the legal music providers such as Apple iTunes, Saavn and Gaana.

ADVERTISEMENT