Main Kaun Hoon Lyrics from the Movie Lamhaa: The Untold Story of Kashmir (2010), sung by Dr Palash Sen. The song is composed by Mithoon Sharma and the lyrics are penned by Amitabh Verma. Discover more songs lyrics...

Main Kaun Hoon Lyrics from Movie Lamhaa: The Untold Story of Kashmir (2010) sung by Dr Palash Sen. Learn, Main Kaun Hoon Lyrics meaning in English/Hindi

Movie/album: Lamhaa: The Untold Story of Kashmir
Singers: Palash Sen
Song Lyricists: Amitabh Verma
Music Composer: Mithoon Sharma
Music Director: Mithoon Sharma
Music Label: T-Series
Starring: Sanjay Dutt, Bipasha Basu, Anupam Kher, Kunal Kapoor

Main Kaun Hoon Song Lyrics

Main kya kahun
Main kuch bhi nahi
Bulla kahe tu kuch bhi nahi
Main bhi kahun
Main kuch bhi nahi
Bulla kahe tu kuch bhi nahi
Main kuch bhi nahi
Naa des mera naa mitti meri
Main hun banjaara
Meri hi zameen pe
Main kaun hun
Main kaun hun
Kyon apne jahaan mein
Main hun ajnabee
Main kaun hun
Main kaun hun

This long cannot go
Pandito ke naam par
Kashmeeriat ke naam par
Azaadi ke naam par
Sabi shaamil hain
Sabi shaamil hain

Naa jaane kyun aisa ho gaya
Begaani hui apni jagah
Naa jaane kyun apni hi taraf
Uth ti hain sabhi ki ungliyaan
Ab to yakeen khud pe bhi nahin
Anjaana hai har lamhaa yahaan
Nazre churaaye aankhein jhukaaye
Kab tak jeeye hum iss tarah
Kaisi khata thi jo yeh sazaa di
Humko kahin ka naa rakha
Jannat thi apni sarzameen
Sufi humko kehte sabhi
Ab to koi mujrim
Koi aatanki keh raha
Main kaun hun
Main kaun hun
Kyon apne jahaan mein
Main hun ajnabee
Main kaun hun
Main kaun hun

Naa des mera naa mitti meri
Main hun banjaara
Meri hi zameen pe
Main kaun hun
Main kaun hun

Chehre to sabke hain haseen
Par dil mein hai bas aag hi
Bujhti nahi jo jal rahi
Jo puche barhaan

Main kaun hun
Main kaun hun
Kyon apne jahaan mein
Main hun ajnabee
Main kaun hun
Main kaun hun.

Translated Version

मैं क्या कहूं
मैं कुछ भी नहीं
बुल्ला कहे तू कुछ भी नहीं
मैं भी कहूं
मैं कुछ भी नहीं
बुल्ला कहे तू कुछ भी नहीं
मैं कुछ भी नहीं
ना देस मेरा ना मिटटी मेरी
मैं हूँ बंजारा
मेरी ही ज़मीन पे
मैं कौन हूँ
मैं कौन हूँ
क्यों अपने जहां में
मैं हूँ अजनबी
मैं कौन हूँ
मैं कौन हूँ

थिस लांग कन्नोत गो
पंडितो के नाम पर
कश्मीरियत के नाम पर
आज़ादी के नाम पर
सभी शामिल हैं
सभी शामिल हैं

ना जाने क्यों ऐसा हो गया
बेगानी हुई अपनी जगह
ना जाने क्यों अपनी ही तरफ
उठ ति हैं सभी की उंगलियां
अब तो यकीं ख़ुद पे भी नहीं
अनजाना है हर लम्हा यहां
नज़रे चुराये आँखें झुकाए
कब तक जीए हम इस तरह
कैसी खता थी जो यह सज़ा दी
हमको कहीं का ना रखा
जन्नत थी अपनी सरजमीं
सूफी हुमको कहते सभी
अब तो कोई मुजरिम
कोई आतंकी कह रहा
मैं कौन हूँ
मैं कौन हूँ
क्यों अपने जहां में
मैं हूँ अजनबी
मैं कौन हूँ
मैं कौन हूँ

ना देस मेरा ना मिटटी मेरी
मैं हूँ बंजारा
मेरी ही ज़मीन पे
मैं कौन हूँ
मैं कौन हूँ

चेहरे तो सबके हैं हसीं
पर दिल में है बस आज ही
बुझती नहीं जो जल रही
जो पूछे बारहां

मैं कौन हूँ
मैं कौन हूँ
क्यों अपने जहां में
मैं हूँ अजनबी
मैं कौन हूँ
मैं कौन हूँ.

Tip: You can learn the meanings of Main Kaun Hoon Lyrics in English/Hindi by hovering over the highlighted word.


Lyrics provided on Lyricstaal.com are for reference and education purpose only. We don't promote copyright infringement instead, if you enjoy the music then please support the respective artists and buy the original music from the legal music providers such as Apple iTunes, Saavn and Gaana.

ADVERTISEMENT

Main Kaun Hoon Lyrics Video