Kattarwaad Rap Lyrics – Rap ID from the Movie , sung by RAP ID. The song is composed by KATTO and the lyrics are penned by RAP ID. Discover more , , songs lyrics...

Kattarwaad Rap Lyrics – Rap ID sung by RAP ID. Learn, Kattarwaad Rap Lyrics – Rap ID meaning in English/Hindi

Song : Kattarwaad Rap
Singer: NAVID HUSSAIN & RAP- ID
Lyrics: RAP-ID
Music: KATTO
Cast: NAVID HUSSAIN & RAP ID
Lable: RAP ID

Kattarwaad Rap Lyrics

Haan mai Hindu,
Aaur ye desh Hindustan hein,
Pradhan Mantri hindu kyuki,
Bahumat awam hai,
Mujhe garv meri soch,
Rooh bhi hindu tabhi,
Muh me hindu har waqt,
Jai Shree Ram hai,

Hamara hi khate ho tum,
Fhir hamara hi virodh,
Ram mandir ke upar,
Tumne babri bnaya,
Jisko shaq uski kabar dunga,
Khood!
Mera jayaz hai krodh,
Jai Shree Ram,

Dharm ki rakhsa ki baat to,
Hum darte nahin,
Hum veer gati ko prapt,
Hum marte nahin,
Tum dharam ke naam pe,
Khud ko marne aaur,
Marte ho khud ko hi batten,
Besharte sahi kyun,
Par hum dharam ki baat kren to,
Sanghi, Gunde, Dangai,
Par kisne badhaya tha,
Baat duniyan me sacchai,
Hoti kam nahin,

Manwata ki maut tum,
Danawta ki fauj tum,
Kya kahna pdega ki,
Aatankwaad ki caoum tum,
Kashmeer me bahin lashen,
Aaurat kitne bacche,
Par wo hindu the uss samay,
Ke maut tum,
Kaun tum??

Tum desh drohi,
Vesh whi,
Ise desh ki mitti,
Nahi tumhare hath mein,
Patthar,
Fekk do ye jawano par,
Bhagwano pr,
Aaur hum sahre rahen,
Aahh! Sad Story,

Agar shree Ram ne hamhe daya sikhayi to,
Lakshman ne sikhaya karna antt bhi,
Tumne diya zinna ko janm,
Jao Pakistan ye dharti,
Swami Vivekanand ki,

Are Allah ke naam pe,
Chati pe bomb lapet ke,
Sahadat ki chah nahin,
Ye aadat tumhari,
Lanat tumhari,
Soch pe,
jo dusre dharam ko koshte,
Zihad ki fasad bhi,
Paidawar hai tumhari,
Aaur burkhe ki aad me,
Kitne baar bach kar,
Dikha chuke maksad,
Kaun taskar,
Gau bhakshak,
Sau laskare tauba,
Caum ki tumhari,
Nasal,
Are gai ko mata nahin to,
Kam se kam,
Mano ek janwar,
Khate usko chir kar,
Usme bhi jaan ye bhi,
Jan kar,
Yaad rakhna ye paap dhulega nahin,
Chankar,
Kyuki uski jegeh tumhare pet me nahin,
Uski jegeh khuli maidan par,
Oh God,

Aaur,
Aaur kal ki hi baat hai,
Tumne uskaye kitne chatra,
Bhadkaye kitne dange,
Jalayi kitne basen,
Lahraye kitne tirenge,
Ladi kitne jung,
Desh prem ke liye,
Tumhare desh prem me lag jata,
Itni asani se,
Kyun jung hai,

Tumhare purwaj hindu dham ke,
Fhir bhi tum bhoj bharat maa ki shan pe,
Tumhe bhagwa se nafrat,
NRC se nafrat,
Kah kyu nahi dete,
Tumhe pyar Pakistan se,

Khair har sikke ke 2 pahlu,
Socha phle mai kahlu,
Maine bola tune saha,
Tu bol thoda,
Mai sahlu,
Jai Shree Ram,
Jai Shree Ram,

Huh!
Sayad Hindustan ke matlab se,
Tu ruhh baru hi nahin,
Dumb Fuck,
Hujere bewcoof,
Gau mutra ka nasha,
Kam kar,
Hindustan ka arth,
Hindu nadi ke paar,
Ki dharti na ki Hindon,
Ka stan par tu,
Dumb Fuck kya bolu tujhe,
Dumb bhakt,
Tujhe dikhta na bhed bhav,
Tujhe lagte hai hum sab,
Hum Sakl,
Tujhe dikhte hum sab ke hath mein,
Kankad,
Teri baat karau kya apne walid se,
Jo tujhse bada desh bhakt,
Bharat ki army mein,
Garmi mein,
Sardi mein,
Tainat,
Kashmir me iss waqt,
Oh sorry,
Kashmir me hein abhi,
Out of Sampark,
Aaur bhay me jeena,
Bhayankar,
Lekin iss loktantra me,
Jam kar,
Hoti mobling chin,
Video bnati bheed,
Jai Shree Ram chillati,
Police chup,
Sarkar aankhon me patti lgati,
Ye Ram Rajya nahi vanvas jangal,
Yeh jangal,

Tum bante gau rakshak,
Lagbhag har sadak par,
Iss mulk mein jee rhi gai mar mar kar,
Aaur jis hukumat me balatkaari,
Aaur apradhi rajneeti mein,
Mil jaye mera imaan,
Nahi deta izajat,
Par kyuki wo,
Tere hi majhab ke,
Jake unka khul ke samarthan kar,
Kyun,
Aaur bhurkha ke prateek,
Haya ka Kuraan mein,
Jaa jake dekh,
Kya likhi maryada,
Ved Puran mein,
Pahle jhank apne giraban mein,
Apna tann dhak,
Haa kiya kuch logon ne,
Allahu Akbar badnaam,
Sunkar Ram ka naam,
Wo dinn dur nahin,
Jab honge katal sare aam,
Aaur prashasan hoga maun kyuki,
Sanvidhan ki reedh ko todkar,
Chir Maror Kar,
Karna chahta Hindu rastra ka nirman,
Ye vanwas,
Ye jangal,
Ye jangal,
Hindutav ka rakshak ya bolu tumhe,
Hindutav ke raakchas,
Agar survival ki baat ho,
Ek Muslim or ek gai ho,
Tum kha jaoge musalman ko,
Besart ye baat,
Be satt pratishat sach,

Aaur ye jameen kisi ke baap ki nahin,
To hamhe ye bhay nahin,
Ki tumhara hindutav,
Islam ki kabar khudwa na de,
Bhay ye kahi tum APJ Abdul Kalam,
Ka naam itihas se bhulwa na de,
Bhay ye kahi bhagwa ka bhaar,
Bhai Chare ko iss desh ke bahar,
Bhagwa na de,

Are bachpan me T.V me Jai Shree Ram,
Sunne ko milta tha,
To dikhte the chaati chirte huen,
Hanumaan,
Aaur aaj dikhte hai,
Hath me talvar liye haiwan,
Shaitaan,
Kya shastro me sastra,
Veerta ki pahchan,
Lekin bilkun,
Bilkun,
Pahlu har sikke ke do,
Alag har bande ki soch,
To kyu na iss kattarwad jahniyat ko chor,
Badhe bhai chare ki aor,
Insaniyaat ki aor,
Insaniyaat ki aor,

Translated Version

हाँ मई हिन्दू
और ये देश हिंदुस्तान हैं
प्रधान मंत्री हिन्दू क्युकी
बहुमत एवं है
मुझे गर्व मेरी सोच
रूह भी हिन्दू तभी
मुँह में हिन्दू हर वक़्त
जय श्री राम है

हमारा ही कहते हो तुम
फिर हमारा ही विरोध
राम मंदिर के ऊपर
तुमने बाबरी बनाया
जिसको शक उसकी कबर दूंगा
खुद !
मेरा जायज़ है क्रोध
जय श्री राम

धर्म की रक्षा की बात तो
हम डरते नहीं
हम वीर गति को प्राप्त
हम मरते नहीं
तुम धरम के नाम पे
खुद को मरने और
मरते हो खुद को ही बैटन
बशर्ते सही क्यों
पर हम धरम की बात करें तो
संघी , गुंडे , दंगाई ,
पर किसने बढ़ाया था
बात दुनियां में सच्चाई
होती काम नहीं

मानवता की मौत तुम
दानवता की फ़ौज तुम
क्या कहना पड़ेगा की
आतंकवाद की कायम तुम
कश्मीर में बही लाशें
औरत कितने बच्चे
पर वो हिन्दू थे उस समय
के मौत तुम
कौन तुम ??

तुम देश द्रोही
वेश वही
इसे देश की मिटटी
नहीं तुम्हारे हाथ में
पत्थर
फक्क दो ये जवानो पर
भगवानो पर
और हम सहरे रहें
आठ ! साद स्टोरी

अगर श्री राम ने हम्हे दया सिखाई तो
लक्ष्मण ने सिखाया करना अंतत भी
तुमने दिया जिन्ना को जन्म
जाओ पाकिस्तान ये धरती
स्वामी विवेकानंद की


अरे अल्लाह के नाम पे
छाती पे बम लपेट के
सहादत की छह नहीं
ये आदत तुम्हारी
लानत तुम्हारी
सोच पे
जो दूसरे धरम को कोश्ते
जिहाद की फसाद भी
पैदावार है तुम्हारी
और बुरखे की आड़ में
कितने बार बच कर
दिखा चुके मकसद
कौन तस्कर
गौ भक्षक
सौ लश्करे तौबा
कौम की तुम्हारी
नेसल
अरे गई को माता नहीं तो
काम से काम
मनो एक जानवर
कहते उसको चिर कर
उसमे भी जान ये भी
जान कर
याद रखना ये पाप धुलेगा नहीं
छानकर
क्युकी उसकी जगह तुम्हारे पेट में नहीं
उसकी जगह खुली मैदान पर
ओह गॉड

और,
और कल की ही बात है
तुमने ुस्काए कितने छात्र
भड़काए कितने दंगे
जलाई कितने बसें
लहराए कितने तिरंगे
लड़ी कितने जुंग
देश प्रेम के लिए
तुम्हारे देश प्रेम में लग जाता
इतनी आसानी से
क्यों जुंग है

तुम्हारे पूर्वज हिन्दू धाम के
फिर भी तुम बोज भारत माँ की शान पे
तुम्हे भगवा से नफरत
नर्स से नफरत
कह क्यों नहीं देते
तुम्हे प्यार पाकिस्तान से

खैर हर सिक्के के २ पहलु
सोचा पहले मई कहलू
मैंने बोलै तूने सहा
तू बोल थोड़ा
मई सहलु
जय श्री राम
जय श्री राम


हँ !
सायद हिंदुस्तान के मतलब से
तू रूठ बरु ही नहीं
डम्ब फ़क
हुजरे बेवकूफ
गौ मूत्र का नशा
काम कर
हिंदुस्तान का अर्थ
हिन्दू नदी के पार
की धरती न की हिण्डोन
का स्तन पर तू
डम्ब फ़क क्या बोलू तुझे
डम्ब भक्त
तुझे दीखता न भेद भाव
तुझे लगते है हम सब
हम सकल
तुझे दीखते हम सब के हाथ में
कंकड़
तेरी बात करौ क्या अपने वालिद से
जो तुझसे बड़ा देश भक्त
भारत की आर्मी में
गर्मी में
सर्दी में
तैनात
कश्मीर में इस वक़्त
ओह सॉरी
कश्मीर में हैं अभी
आउट ऑफ़ संपर्क
और भय में जीना
भयंकर
लेकिन इस लोकतंत्र में
जैम कर
होती मोबलिंग चीन
वीडियो बनती भीड़
जय श्री राम चिल्लाती
पुलिस चुप
सर्कार आँखों में पट्टी लगती
ये राम राज्य नहीं वनवास जंगल ,
यह जंगल


तुम बनते गौ रक्षक
लगभग हर सड़क पर
इस मुल्क में जी रही गई मर मर कर
और जिस हुकूमत में बलात्कारी
और अपराधी राजनीती में
मिल जाये मेरा ईमान ,
नहीं देता इजाजत ,
पर क्युकी वो
तेरे ही मजहब के
जेक उनका खुल के समर्थन कर
क्यों
और भुरखा के प्रतीक
हाय का कुरआन में
जा जेक देख
क्या लिखी मर्यादा
वेद पुराण में
पहले झांक अपने गिरेबान में
अपना तन्न धक्
हां किया कुछ लोगों ने
अल्लाहु अक़बा r बदनाम
सुनकर राम का नाम
वो दिनन दूर नहीं
जब होंगे कतल सरे आम
और प्रशासन होगा मौन क्युकी
संविधान की रीढ़ को तोड़कर
चिर मरोर कर
करना चाहता हिन्दू राष्ट्र का निर्माण
ये वनवास
ये जंगल
ये जंगल
हिंदुत्व का रक्षक या बोलू तुम्हे
हिंदुत्व के राक्छस
अगर सर्वाइवल की बात हो
एक मुस्लिम और एक गई हो
तुम खा जाओग मुस्लमान के
बसरत ये बात
बे सत् प्रतिशत सच

और ये जमीन किसी के बाप की नहीं
तो हम्हे ये भय नहीं
की तुम्हारा हिंदुत्व
इस्लाम की कबर खुदवा न दे
भय ये कही तुम एपीजे अब्दुल कलम
का नाम इतिहास से भुलवा न दे
भय ये कही भगवा का भार
भाई चारे को इस देश के बहार
भगवा न दे

अरे बचपन में टीवी में जय श्री राम
सुनने को मिलता था
तो दीखते थे छाती चीरते हुए
हनुमान
और आज दीखते है
हाथ में तलवार लिए हैवान
शैतान
क्या शास्त्रों में सस्त्र
वीरता की पहचान
लेकिन बिल्कुन
बिल्कुन
पहलु हर सिक्के के दो
अलग हर बन्दे की सोच
तो क्यों नहीं कट्टरवाद जहनियत को चोर
बढे भाई चारे की और
इंसानियत की और
इंसानियत की और

Tip: You can learn the meanings of Kattarwaad Rap Lyrics – Rap ID in English/Hindi by hovering over the highlighted word.


Lyrics provided on Lyricstaal.com are for reference and education purpose only. We don't promote copyright infringement instead, if you enjoy the music then please support the respective artists and buy the original music from the legal music providers such as Apple iTunes, Saavn and Gaana.

ADVERTISEMENT

Kattarwaad Rap Lyrics – Rap ID Video